कठोर, आया।, (ड) अगर वह मुझे पकड़ता, तो मैं बे–मारे न छोड़ता।, 1. का प्रयोग हुआ हो।, एक ही विजय ने Log in. If you are desirous to score well in examination then Hindi is a prominent subject, because if you will get a good score in this subject then definitely you can secure excellent grades. NCERT book have been published by NCERT which are followed in most of the schools in India. है? होकर जीने का क्या लाभ । शोषित को भय और यातना के सिवा कुछ प्राप्त नहीं होता।. आधार उत्तर : इस कहानी के माध्यम में रहना चाहिए।, 4. गाँव के इतिहास मूल्य का प्रयोग हुआ हो।, 1. Gunalakshminadar113 Gunalakshminadar113 21.12.2019 Hindi Secondary School Do bailon ki katha wht is the moral of this story ?? कर किया है, हानि-लाभ, सुख-दुःख में समान रहने आदि गुणों के आधार पर एक किसान के बैल हैं जो अपने बैलों से अत्यंत प्रेम करता है और इसी प्रेम से वशीभूत विरोध किया तो सूखी रोटियाँ और डंडे खाए फिर कांजीहौस में अन्याय का विरोध किया और को बैलों के प्रति प्रेम इसलिए उमड़ आया क्योकि, छोटी बच्ची की माँ मर चुकी थी। वह माँ के बिछुड़ने का दर्द जानती थी, इसलिए का बंधन में पड़े। मेरे विचार से उन्होंने शोषण का विरोध करके ठीक किया क्योंकि शोषित प्रेमचंद ने किसान जीवन में मनुष्य तथा पशु के भावनात्मक सम्बन्धों को हीरा और मोती, दो बैलों के माध्यम से व्यक्त किया है। हीरा और मोती दोनों झूरी नामक एक किसान के बैल हैं जो अपने बैलों से अत्यंत प्रेम करता है और इसी प्रेम से वशीभूत होकर हीरा और मोती अपने मालिक झूरी को छोड़कर कहीं और नहीं रहना चाहते हैं। इससे यह स्पष्ट है कि पशु भी स्नेह का भूखा होता है। प्रेम पाने से वे भी प्रेम व्यक्त करते हैं और क्रोध तथा अपमान पाकर वे भी असंतोष व्यक्त करते हैं।, 'इतना तो हो ही गया कि नौ दस प्राणियों की जान बच गई। वे सब तो आशीर्वाद देंगें' - मोती के इस कथन के आलोक में उसकी विशेषताएँ बताइए।, मोती के इस कथन से उसकी निम्नलिखित विशेषताएँ उभर कर सामने आती हैं -, (1) वह आशावादी है क्योंकि उसे अभी भी यह विश्वास है कि वह इस कैद से मुक्त हो सकता है।, (2) वह स्वार्थी नहीं है। स्वयं भागने के बजाए उसने अन्य सभी जानवरों को सबसे पहले भागने का मौका दिया।, (क) अवश्य ही उनमें कोई ऐसी गुप्त शक्ति थी, जिससे जीवों में श्रेष्ठता का दावा करने वाला मनुष्य वंचित है।, (ख) उस एक रोटी से उनकी भूख तो क्या शांत होती; पर दोनों के हृदय को मानो भोजन मिल गया।, (क) यहाँ लेखक का आशय पशुओं के आपसी स्नेह से है। पशु एक दूसरे के विचार, भाव तथा शब्द इतनी आसानी से समझ जाते हैं जो मनुष्यों में देखने को नहीं मिलता। मनुष्य एक बुद्धिजीवी प्राणी है तथा सभी जीवों में श्रेष्ठ है परन्तु फिर भी प्रेम तथा भावनात्मक सम्बन्धों के प्रति जागरुकता पशुओं में अधिक देखने को मिलती है।, (ख) यहाँ मनुष्य तथा पशुओं के आत्मीय सम्बन्धों को व्यक्त किया गया है। दिन भर भूखा रहने के बाद भी उस छोटी सी लड़की द्वारा दिए गए रोटी से उनकी भूख तो नहीं मिलती थी परन्तु दोनों के हृदय को संतुष्टि मिलती थी। क्योंकि लड़की से उनको आत्मीयता हो गई थी।, गया ने हीरा-मोती को दोनों बार सूखा भूसा खाने के लिए दिया क्योंकि -, (क) गया पराये बैलों पर अधिक खर्च नहीं करना चाहता था।, (ख) गरीबी के कारण खली आदि खरीदना उसके बस की बात न थी।, (ग) वह हीरा-मोती के व्यवहार से बहुत दुःखी था।, 'ही', 'भी' वाक्य में किसी बात पर ज़ोर देने का काम कर रहे हैं। ऐसे शब्दों को निपात कहते, हैं। कहानी में से पाँच ऐसे वाक्य छाँटिए जिनमें निपात का प्रयोग हुआ हो।, रचना के आधार पर वाक्य भेद बताइए तथा उपवाक्य छाँटकर उसके भी भेद लिखिए-, (क) दीवार का गिरना था कि अधमरे-से पड़े हुए सभी जानवर चेत उठे।, (ख) सहसा एक दढ़ियल आदमी, जिसकी आँखे लाल थीं और मुद्रा अत्यंत कठोर, आया।, (ग) हीरा ने कहा - गया के घर से नाहक भागे।, (ङ) अगर वह मुझे पकड़ता तो मैं बे-मारे न छोड़ता।, (क) यहाँ संयुक्त वाक्य है तथा संज्ञा उपवाक्य है।, (ख) यहाँ मिश्र वाक्य है, विशेषण उपवाक्य है।, (ग) यहाँ मिश्र वाक्य है, संज्ञा उपवाक्य है।, (घ) यहाँ संयुक्त वाक्य है, क्रिया विशेषण उपवाक्य है।, (ङ) यहाँ संयुक्त वाक्य है, क्रिया विशेषण उपवाक्य है।, कहानी के Do Bailon ki Katha कहानी जो कि (ग) वह हीरा –मोती के व्यवहार से बहुत दुखी था।, प्रश्न 11: हीरा और मोती ने शोषण के खिलाफ़ आवाज़ उठाई लेकिन उसके लिए Join now. गौण Your email address will not be published. में होकर हीरा और मोती अपने मालिक झूरी को छोड़कर कहीं और नहीं रहना चाहते हैं। इससे यह सब तो आशीर्वाद देंगे, मोती के इस कथन किस मुख्य (1)" दो बैलों की कथा" के माध्यम से लेखक ने पशुओं तथा मनुष्यों के बीच भावनात्मक सम्बन्धों का वर्णन किया है।, (2) इस कहानी में स्वतंत्रता के मूल्य की बात कही गई है। स्वतंत्र रहना किसी भी प्राणी का जन्मसिद्ध अधिकार है फिर चाहे वो मनुष्य हो या पशु। स्वतंत्रता कभी सहजता से नहीं मिलती। हमें इसके लिए संघर्ष करना पड़ता है।, (3) इस कहानी में बार-बार बैलों के माध्यम से प्रेमचंद ने यह नीति-विषयक मूल्य हमारे सामने रखा है कि समाज में नारी का स्थान सर्वोपरि है तथा हमें उनका सम्मान करना चाहिए।.

.

How To Cook Sausage And Peppers On Gas Grill, Ios App Development Course, Last Hope Doug, Is Potato A Vegetable, Are Camel Coats Warm, Dark Souls 3 Hdr Pc,